FAMILIAL FORESTRY

LEAVE YOUR GREEN FOOTPRINT

Desertification And Drought Day 2021

What is Desertification and Drought Day?

Desertification and Drought Day was officially declared by the UN General Assembly as “World Day to Combat Desertification and Drought” (The resolution A/RES/49/115).
The objectives of Desertification and Drought Day are:
1-To promote public awareness of the issue
2-To let people know that desertification and drought can be effectively tackled, that solutions are possible, and that key tools to this aim lay in strengthened community participation and cooperation at all levels.
3-To strengthen implementation of the United Nations Convention to Combat Desertification in those countries experiencing serious drought and/or desertification, particularly in Africa.

Why do we observe Desertification and Drought Day?

How does desertification affect you? No matter where you live, the consequences of desertification and drought concern you. Globally, 23 per cent of the land is no longer productive. 75 per cent has been transformed from its natural state, mostly for agriculture. This transformation in land use is happening at a faster rate than at any other time in human history, and has accelerated over the last 50 years. Scientists say the evolution from one state to the next is so rapid, the process is only observable over very short periods. Everyone needs to know that desertification, land degradation and drought (DLDD) have direct affect on their daily lives, and that everyone’s daily actions can either contribute to, or help fight DLDD.
This day is observed on 17th June every year. The 2021 Desertification and Drought Day will focus on turning degraded land into healthy land. Restoring degraded land brings economic resilience, creates jobs, raises incomes and increases food security. It helps biodiversity to recover. It locks away the atmospheric carbon warming the Earth, slowing climate change. It can also lessen the impacts of climate change and underpin a green recovery from the COVID-19 pandemic.
We are going to mark this day by engaging students, youths and desert dwellers from 1000 villages of western Rajasthan. We will plant trees and make people aware about the process of desertification and how can they contribute to combat it.

ShyamSunder Jyani
Associate professor in sociology
Govt. Dungar College, Bikaner, Rajasthan, India

मरुस्थलीकरण और सूखा दिवस 2021

मरुस्थलीकरण और सूखा दिवस क्या है?

मरुस्थलीकरण और सूखा दिवस को आधिकारिक तौर पर संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा “विश्व मरुस्थलीकरण और सूखे से निपटने के लिए विश्व दिवस” (संकल्प ए / आरईएस / 49/115) के रूप में घोषित किया गया था। मरुस्थलीकरण और सूखा दिवस के उद्देश्य हैं:

1- इस विषय के बारे में जन जागरूकता को बढ़ावा देने के लिए।
2- लोगों को यह बताने के लिए कि मरुस्थलीकरण और सूखे से प्रभावी ढंग से निपटा जा सकता है, कि समाधान संभव हैं, और इस उद्देश्य के प्रमुख उपकरण सभी स्तरों पर मजबूत सामुदायिक भागीदारी और सहयोग में निहित हैं।
3- विशेष रूप से अफ्रीका में गंभीर सूखे और/या मरुस्थलीकरण का सामना कर रहे देशों में मरुस्थलीकरण का मुकाबला करने के लिए संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन के कार्यान्वयन को मजबूत करना।

हम मरुस्थलीकरण और सूखा दिवस क्यों मनाते हैं?

मरुस्थलीकरण आपको कैसे प्रभावित करता है? कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कहाँ रहते हैं, मरुस्थलीकरण और सूखे के परिणाम आपको प्रभावित करते हैं। विश्व स्तर पर, 23 प्रतिशत भूमि अब उत्पादक नहीं है। 75 प्रतिशत को उसकी प्राकृतिक अवस्था से बदल दिया गया है, ज्यादातर कृषि के लिए। भूमि उपयोग में यह परिवर्तन मानव इतिहास में किसी भी समय की तुलना में तेज गति से हो रहा है, और पिछले 50 वर्षों में इसमें तेजी आई है। वैज्ञानिकों का कहना है कि एक देश से दूसरे देश में विकास इतनी तेजी से होता है कि यह प्रक्रिया बहुत कम समय में ही देखी जा सकती है। हर किसी को यह जानने की जरूरत है कि मरुस्थलीकरण, भूमि क्षरण और सूखा (DLDD) का उनके दैनिक जीवन पर सीधा प्रभाव पड़ता है, और सभी को DLDD से लड़ने में योगदान देना चाहिए या मदद करनी चाहिए।
यह दिन हर साल 17 जून को मनाया जाता है। 2021 मरुस्थलीकरण और सूखा दिवस खराब भूमि को स्वस्थ भूमि में बदलने पर ध्यान केंद्रित करेगा। निम्नीकृत भूमि को पुनर्स्थापित करने से आर्थिक लचीलापन आता है, रोजगार सृजित होते हैं, आय में वृद्धि होती है और खाद्य सुरक्षा में वृद्धि होती है। यह जैव विविधता को पुनः प्राप्त  करने में मदद करता है। यह वायुमंडलीय कार्बन को सोखकर जलवायु परिवर्तन को धीमा करता है। यह जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को भी कम कर सकता है और COVID-19 महामारी से उबरने हेतु ग्रीन रिकवरी की प्रक्रिया को तेज करता है।
हम इस दिन को पश्चिमी राजस्थान के 1000 गांवों के छात्रों, युवाओं और रेगिस्तानी निवासियों को शामिल करके मनाने जा रहे हैं। हम पौधरोपण करेंगे और लोगों को मरुस्थलीकरण की प्रक्रिया व इसकी रोकथाम में उनकी भूमिका के बारे में जागरूक करेंगे।
श्यामसुंदर ज्याणी
एसोसिएट प्रोफ़ेसर समाजशास्त्र
राजकीय डूंगर महाविद्यालय, बीकानेर,राजस्थान

Details of activities on Desertification and Drought Day.

Good time, we the Familial Forestry activists from Rajasthan observed Desertification and Drought Day 2021 in 1,000 locations of Rajasthan, India. Rajasthan school teachers association (Shekhawat group) organised plantation and pledge event through familial forestry concept in over 900 schools across the state. Our Familial Forestry forums also observed the day by doing plantation, taking pledge to treat these saplings as green members of their families and also took pledge to not waste food. Along with Panchayats Samiti Tatanagar of Churu district we did plantation of 5100 saplings at 33 public locations of 32 villages and it was done in the leadership of 3300 female participants. In my knowledge it was the largest grass root level collective effort to observe the Desertification and Drought Day. Read More >>

CONTACT

Copyright Familial Forestry | All Right Reserved.